….फिर क्या मतलब तेरे-मेरे साथ का

शीर्षक- मै और तू

चले तू जिस राह पर ,
कांटा कोई चुभ जाए अगर ,
फिर क्या मतलब तेरे-मेरे साथ का ।
बढ़े कदम तेरे ,
और मंजिल छूट जाए अगर ,
फिर क्या मतलब तेरे मेरे साथ का।
मैं मनाऊं तुझे ,
फिर भी तू रूठ जाए अगर ,
फिर क्या मतलब तेरे मेरे साथ का।
खुश रहु मैं ,
और पलके तेरी भीग जाएं अगर ,
फिर क्या मतलब तेरे मेरे साथ का।।

हेमंत की कलम से

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!